Monday , May 27 2019
Loading...
Breaking News

लोकसभा चुनाव 2019 की सियासत की लड़ाई में आजम खान की एंट्री

लोकसभा चुनाव 2019 की सियासत की लड़ाई में एक बार फिर से सपा नेता आजम खान की एंट्री हुई है। रामपुर संसदीय सीट से गठबंधन प्रत्याशी आजम खान एक बार फिर से चर्चा में हैं। मंगलवार को खुद आजम खान ने मीडिया से कहा, ‘उनकी जानकारी में आया है कि जिले के कुछ अधिकारियों ने मुझसे अपनी जान का खतरा बताते हुए जिला प्रशासन को लेटर भेजा है। जिला प्रशासन खुद उनकी मर्डर की साजिश रच रहा है इसलिए काउंटिंग के दिन मेरे वोटों की लूट के लिए पेशबंदी की जा रही है। ‘

आजम खान ने बोला कि वह अपने परिवार के सभी सदस्यों के शस्त्र को अब बेचना चाहते हैं। आजम खान के मुताबिक मतदान वाले दिन भी रामपुर में भय व दहशत का माहौल था। मतदान के दिन अल्पसंख्यक वोटरों में दहशत का माहौल था। जिला प्रशासन ने हमारे सारे लाइसेंस निरस्त कर दिए, जबकि हमारा कोई आपराधिक इतिहास नहीं रहा है। 16 मुकदमें आचार संहिता के कायम किए गए, जिसमें 5 मुकदमों पर उच्च न्यायालय से स्टे व अरेस्ट स्टे मिल गया है। जिले के 77 हजार लोगों को रेड कार्ड जारी किए गए थे। अब एक बार फिर से जिला प्रशासन मतगणना में गड़बड़ी करने की प्रयास मे लगी हुई है। जिला प्रशासन नहीं चाहती है कि मैं यहां से जीत हासिल करूं।

‘जिला प्रशासन कर्फ्यू लगा कर मतगणना कराना चाहती है’

आजम खान का बोलना है कि जिला प्रशासन रामपुर में कर्फ्यू लगाकर मतगणना कराना चाहता है। यह मुझे मारने व वोटों की गिनती में गड़बड़ी करने की साजिश है। अगर मुझसे किसी को जान की खतरा है तो सरकार को चाहिए वह ऐसे अधिकारियों को पूरी सुरक्षा उपलब्ध कराए। मैं अपना गनर भी वापस करना चाहते हैं व उनके व उनके परिवार के सदस्यों के शस्त्र लाइसेंस को डीएम ने पहले से ही निलंबित कर दिया है, अब उन शस्त्रों को हम बेचना चाहते हैं।

लोकसभा चुनाव 2019 में बसपा सुप्रीमो मायावती के साथ आजम खान

आजम खान ने दावा किया कि चुनाव के दौरान जिला प्रशासन ने उन पर जो 16 मुकदमे पंजीकृत कराए। पांच मामलों में इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने ही गिरफ्तारी पर रोक लगा दी है। आजम खाान ने बोला कि ऑफिसर खुद मेरी मर्डर का षड़यंत्र रच रहे हैं व उनकी हर संभव प्रयास भाजपा प्रत्याशी को चुनाव जीताने की है।

आजम खान व विवादों से है पुराना नाता

बता दें कि आजम खान लगातार सुर्खियों में बन रहते हैं। पिछले दिनों ही मीडिया से बदसलूकी का मुद्दा सामने आया था। लोकसभा चुनाव के प्रचार के दौरान कई बार विवादित बयान देकर आजम घिर चुके हैं। बताया जाता है कि इन्हीं बयानों से जुड़े सवाल जब पत्रकारों ने आजम खान से किए तो उन्होंने अपना आपा खो दिया व वो मीडियाकर्मियों से बदसूलकी कर बैठे।

भाजपा प्रत्याशी जयाप्रदा पर अश्लील टिप्पणी के बाद आजम खान ने इस चुनाव में चर्चा मे में आए थे। चुनाव प्रचार के दौरान आजम खान ने बोला था कि इन अफसरों से मत डरना। याद है न मायावती का फोटो जिसमें ये अधिकारी रूमाल निकालकर उनके जूते साफ करते थे। उन्हीं से गठबंधन है। इस बार अफसरों से मायावती जी के जूते साफ करवाऊंगा।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *