Monday , May 27 2019
Loading...

दिल्ली के जंतर मंतर पर भाजपा का विरोध प्रदर्शन

लोकसभा चुनाव के आखिरी चरण के मतदान से पहले पश्चिम बंगाल की सियासत गरमा गई है। मंगलवार को बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के रोड शो में पत्थरबाजी और झड़प का मामला देर शाम चुनाव आयोग पहुंच गया, जहां बीजेपी ने आयोग से मांग की है कि तृणमूल कांग्रेस के समर्थकों को कथित-तौर पर भड़काने के लिए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को प्रचार करने से रोका जाए, जबकि उधर, ईश्वर चंद्र विद्यासागर की मूर्ति तोड़े जाने पर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बीजेपी पर जमकर हमला बोला है।

बंगाल में हिंसा

भाजपा आज हिंसा के विरोध में दिल्ली के जंतर मंतर के साथ-साथ कोलकाता में भी प्रदर्शन करने का फैसला किया है, भाजपा हिंसा के विरोध में आज दिल्ली में सुबह साढ़े 10 बजे जंतर-मंतर पर बीजेपी धरना-प्रदर्शन करेगी तो वहीं इसी मुद्दे पर आज अमित शाह दिल्ली में प्रेस कॉन्फ्रेंस भी करेंगे, यहां आपको बता दें कि इससे पहले ममता बनर्जी ने बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ के दौरे पर रोक लगाई थी, जिस पर भी भाजपा भड़की हुई है।

पीयूष गोयल ने चुनाव आयोग से ठोस कदम उठाने की अपील की
ममता भी हुईं उग्र

ममता ने बीजेपी पर सारा दोष मढ़ते हुए आज उसके विरोध में पदयात्रा करने का फैसला लिया है, तो वहीं आल इण्डिया तृणमूल कांग्रेस ने चुनाव आयोग से आज मिलने का समय मांगा है, पार्टी के संसदीय कमिटी के डेरेक ओब्रायन,सुखेंदु शेखर, मनीष गुप्ता और नदीमुल हक ने आयोग से मुलाकात का समय मांगा है।

पीयूष गोयल ने चुनाव आयोग से ठोस कदम उठाने की अपील की

इस घटना को लेकर केंद्र में मंत्री और भाजपा नेता पीयूष गोयल ने कहा कि ममता सरकार नहीं चाहती कि बंगाल में निष्पक्ष चुनाव हों। वो उल्टा बीजेपी को दोष दे रही हैं, आखिर चुनाव आयोग कोलकाता की हिंसा पर चुप क्यों है। वह मूकदर्शन क्यों बना हुआ है। चुनाव आयोग को ठोस कदम उठाने चाहिए।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *