Thursday , December 13 2018
Loading...

पश्चिमी राज्यों में कम मांग के कारण सस्ती हुई बिजली

बिजली की औसत कीमतें अक्तूबर के मुकाबले नवंबर में 40 प्रतिशत गिरकर 3.59 रुपये प्रति यूनिट रहीं. भारतीय एनर्जी एक्सचेंज (आईईएक्स) ने मंगलवार को बोला कि मुख्य रूप से सर्दियां प्रारम्भ होने से उत्तरी  पश्चिमी राज्यों में कम मांग के कारण कारण कीमतों में गिरावट आई. अक्तूबर में बिजली की औसत मूल्य 5.94 रुपये प्रति यूनिट थी.

आईईएक्स के बयान में बोला गया है कि नवंबर में बिजली का औसत मार्केट समाशोधन मूल्य (एमसीपी) 3.59 रुपये प्रति यूनिट दर्ज किया गया. इसमें पिछले वर्ष की समान अवधि के 3.55 रुपये प्रति यूनिट के मुकाबले 1.12 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई. बयान के मुताबिक, समीक्षाधीन महीने में थर्मल क्षमता उत्पादकों के साथ कोयले की उपलब्धता में सुधार हुआ है. एक राष्ट्र-एक मूल्य को 17 दिनों तक महसूस किया गया.

Loading...

निकट भविष्य में मुख्य रूप से दक्षिण एरिया से अधिक आयात से 3.3 प्रतिशत अधिक बिजली जमा हो गई. दैनिक औसत आधार पर इस महीने 622 प्रतिभागियों ने कारोबार किया.साथ ही इस दौरान 3,404 एमयू (मिलियन यूनिट) का व्यापार देखा गया. पिछले वर्ष की समान अवधि के मुकाबले इसमें तीन प्रतिशत की गिरावट देखी गई. दैनिक औसत आधार पर आईईएक्स पर करीब 113 एमयू का कारोबार हुआ.

loading...

नेशनल लोड डिस्पैच सेंटर के आंकड़ों के मुताबिक, 2 नवंबर को अखिल इंडियन स्तर पर बिजली की मांग सबसे अधिक 162 गीगावाट रही, जो पिछले वर्ष की समान अवधि के मुकाबले 9 प्रतिशत अधिक थी. वहीं, आपूर्ति 1,00,547 एमयू रही. पिछले वर्ष की समान अवधि के 94,371 एमयू के मुकाबले इसमें 7 प्रतिशत की वृद्धि देखी गई.

loading...
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *