Thursday , December 13 2018
Loading...

प्रेग्नेंसी में स्त्रियों के बॉडी में कई तरह के होते है हॉर्मोनल परिवर्तन

प्रेग्नेंसी में स्त्रियों के बॉडी में कई तरह के हॉर्मोनल परिवर्तन आते हैं इसी दौरान कई तरह की कठिनाई  डिप्रेशन को भी झेलना पड़ता है कई बार इस अवस्था में औरतें तनाव की स्थिति से भी गुजरने लगती हैं, ऐसे शारीरिक  मानसिक परिवर्तन के कारण होता है डिप्रेशन की यह स्थिति डिलीवरी के बाद भी बनी रहती है इसकी आसार लड़की से ज्यादा लड़के को जन्म देने वाली स्त्रियों को होती है उनमे ही डिप्रेशन ज्यादा देखा जाता है

Loading...

Image result for 296 स्त्रियों की पूरी रिप्रोडक्टिव हिस्ट्री पर किया गया अध्ययन

दरअसल, एक शोध को अनुसार, बेटे को जन्म देने वाली औरतों में डिप्रेशन होने का खतरा 71-79 फीसदी ज्यादा होता है इस तरह के परिणाम यूनिवर्सिटी ऑफ केन्ट पोस्टनेटल डिप्रेशन (पीएनडी) पर की गई एक स्टडी में सामने आए हैं डॉ सारा जोन्स  डॉ सारा मायर्स का इस बारे में कहना है कि लड़के को जन्म देते समय होने वाली जटिलताएं पोस्टनेटल डिप्रेशन के मुख्य फेक्टर्स हैं लेकिन इसके बचाव हैं जिन्हें ध्यान रखा जा सकता है

loading...

बता दें, इस शोध में 296 स्त्रियों की पूरी रिप्रोडक्टिव हिस्ट्री पर अध्ययन किया गया था  अध्ययन से पहले पीएनडी के बारे अस्पष्ट जानकारी थी स्टडी में बोला गया कि अगर चिकित्सक इसके फेक्टर्स को पहचान कर गर्भवती स्त्रियों को स्पोर्ट करें तो कठिनाई के बढ़ने की आसार बहुत हद तक कम हो सकती है

loading...
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *