Friday , November 16 2018
Loading...
Breaking News

साल 1957 में तत्कालीन रिजर्व बैंक गवर्नर बेनेगल रामा राऊ ने दिया त्याग पत्र

सरकार के रिजर्व बैंक की स्वायत्तता में हस्तक्षेप करने को लेकर कांग्रेस पार्टी की आलोचना झेल रही गवर्नमेंट के एक शीर्ष ऑफिसर ने सोमवार को बोला कि राष्ट्र के पहले पीएम जवाहरलाल नेहरू ने भी उस समय बोला था कि केन्द्रीय बैंक को स्वायत्तता मिली हुई है, लेकिन उसे केन्द्र गवर्नमेंट का आदेश भी मानना होगा नेहरू के तब कहे गये ये शब्द आज भी लागू होते हैं

Loading...

Image result for साल 1957 में तत्कालीन रिजर्व बैंक गवर्नर बेनेगल रामा राव ने दिया त्याग पत्र

सरकार में शीर्ष पद पर कार्य करने वाले इस ऑफिसर ने अपना नाम नहीं बताने की शर्त पर  भी कई ऐसे उदाहरण दिये हैं, जब केन्द्र में रही सरकारों का रिजर्व बैंक के साथ मतभेद रहा प्रथम पीएम जवाहरलाल नेहरू से लेकर पिछली संयुक्त प्रगतिशील साझेदारी सरकारों तक का केन्द्रीय बैंक के साथ नीतिगत मुद्दों पर मतभेद रहा है इसके चलते कई मौकों पर रिजर्व बैंक गवर्नर को त्याग पत्र तक देना पड़ा

loading...

नेहरू के समय भी उठा था विवाद
साल 1957 में तत्कालीन रिजर्व बैंक गवर्नर बेनेगल रामा राऊ ने त्याग पत्र दे दिया था एक प्रस्ताव पर रिजर्व बैंक गवर्नर के साथ उभरे मतभेद के मामले में उस समय के पीएम नेहरू द्वारा अपने वित्त मंत्री टीटी कृष्णामाचारी का समर्थन करने पर उन्होंने त्याग पत्र दे दिया था मौजूदा नरेन्द्र मोदी गवर्नमेंट के रिजर्व बैंक गवर्नर उर्जित पटेल के साथ उभरे मतभेद के बारे में पूछे जाने पर सरकारी ऑफिसर ने कहा, ‘‘नेहरू ने जो बोला था वह आज भी सत्य है ’

राहुल गांधी कर चुके हैं केंद्र की आलोचना
कांग्रेस पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी ने गवर्नमेंट की आलोचना करते हुये बोला है कि वह अपनी धोंसपट्टी की नीतियों पर चलते एक एक कर सरकारी संस्थानों को बरबाद कर रही है रिजर्व बैंक के एक डिप्टी गवर्नर द्वारा केन्द्रीय बैंक की स्वायत्तता का मुद्दा उठाये जाने के बाद मोदी गवर्नमेंट  रिजर्व बैंक के बीच मतभेद खुलकर सामने आ गए डिप्टी गवर्नर ने बोला कि जो सरकारें केन्द्रीय बैंक की स्वायत्तता का सम्मान नहीं करती हैं उन्हें देर सबेर वित्तीय बाजारों के रोष का सामना करना पड़ता है

सरकार  रिजर्व बैंक के बीच जारी मौजूदा खींचतान को कई लोगों ने अप्रत्याशित बताया है जबकि गवर्नमेंट की शीर्ष ऑफिसर इस मामले में पहले की सरकारों के तमाम उदाहरण देते हैं उन्होंने रिजर्व बैंक गवर्नर एन सी सेनगुप्ता  के आर पुरी का उदहारण देते हुये बोला कि गवर्नमेंट के हस्तक्षेप के चलते उनके कार्यकाल को पहले ही खत्म कर दिया गया ऑफिसरने सेनगुप्ता के मामले में बोला कि उन्हें मारूति उद्योग की परियोजना के लिये बैंक कर्ज की सीमा को लेकर उपजे मतभेद की वजह से जाना पड़ा. मारुति उद्योग तत्कालीन पीएमइंदिरा गांधी के बेटे संजय गांधी के दिमाग की उपज थी.

राजीव गांधी ने भी मनमोहन सिंह को भारतीय रिजर्व बैंक से हटाकर भेज दिया था योजना आयोग
पूर्व पीएम मनमोहन सिंह 1982 से 1985 के दौरान रिजर्व बैंक के गवर्नर रहे थे उन्हें भी तत्कालीन पीएम राजीव गांधी ने योजना आयोग में भेज दिया, क्योंकि वह दूसरे आदमी को रिजर्व बैंक गवर्नर के रूप में देखना चाहते थे ऑफिसर ने रिजर्व बैंक के गवर्नर रहे डी सुब्बाराव के कार्यकाल की भी याद दिलाई वह 2008 से 2013 के बीच रिजर्व बैंक के गवर्नर रहेउनके  तत्कालीन वित्त मंत्री पी चिदंबरम के बीच के तनावपूर्ण रिश्तों के बारे में सभी को पता है

loading...
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *