Wednesday , November 14 2018
Loading...

वायु प्रदूषण का स्वास्थ्य पर पड़ता है भारी दुष्प्रभाव

राष्ट्रीय राजधानी के डॉक्टरों ने शनिवार को बोला कि दिल्ली में बेकार वायु प्रदूषण का स्वास्थ्य पर प्रभाव एक दिन में 15-20 सिगरेट पीने के बराबर है वायु प्रदूषण के दुष्प्रभावों को प्रदर्शित करने के लिए, शनिवार को शहर के एक अस्पताल में मानव फेफड़ों के प्रतिरूप को रखा है लंग केयर फाउंडेशन के संस्थापक न्यासी, सर गंगा राम अस्पताल में सेंटर फॉर चेस्ट सर्जरी के अध्यक्ष डॉ अरविंद कुमार ने कहा, ‘‘ मैंने बीते 30 वर्ष में लोगों के फेफड़ों के रंग को बदलते हुए देखा है पहले, सिगरेट पीने वालों के फेफड़ों पर काली रंग की परत होती थी जबकि अन्य के फेफड़ों का रंग गुलाबी होता था

Loading...

Image result for दिल्ली में बढ़ रहा तेजी से वायु प्रदूषण

उन्होंने कहा, ‘‘ लेकिन आजकल, मुझे सिर्फ काले फेफड़े ही दिखाई देते हैं यहां तक कि किशोरों के फेफड़ों तक पर काले निशान होते हैं यह डरावना है इस अनूठे प्रतिरूप से हमें उम्मीद है हम लोगों को यह दिखा सकते हैं कि उनके फेफड़ों में क्या हो रहा है ’’ उन्होंने कहा, ‘‘ लोगों की स्वास्थ्य पर बेकार हवा के असर की तुलना एक दिन में 15-20 सिगरेट पीने से की जा सकती है ’’

loading...

सर गंगा राम अस्पताल में प्रबंधक बोर्ड के उपाध्यक्ष डॉ एसपी बयोत्रा ने बोला कि दिल्ली का वायु प्रदूषण चिंताजनक स्तर पर पहुंच गया है यह लोगों की स्वास्थ्य को गंभीर नुकसान पहुंचा रहा है हमें इस खतरे को तुरंत नियंत्रित करने के लिए कार्रवाई करनी है वरना सेहत के परिणाम विध्वंसक होंगे हम पहले ही देख रहे हैं कि हमारे अस्पताल में खांसी, गले नाक में कठिनाई से ग्रस्त मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है

अस्पताल ने एक बयान में बोला कि जिनेवा में हाल में विश्व सेहत संगठन का वायु प्रदूषण पर पहला सम्मेलन हुआ था यह प्रतिरूप डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक टेड्रोस एडहानोम गेबेरियस की  से जारी चेतावनी की ताकीद है उन्होंने बोला था हमारी स्वास्थ्य पर पड़ने वाला असर स्पष्ट है दिल्ली  केंद्र गवर्नमेंट दोनों ही विफल रही हैं हिंदुस्तान जिस नुकसानदेह रास्ते पर बढ़ रहा है उसे रोकने के लिए कड़े कदम उठाने की आवश्यकता है

loading...
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *