Wednesday , November 14 2018
Loading...

जानिए किसलिए कांग्रेस पर दांव लगाने वालों को मिल रहा है मुनाफा

पांच राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनावों की तारीख करीब आने के साथ ही सियासी पारा चढ़ने लगा है राजनीतिक पार्टियों इन राज्यों में फिर से सत्ता में आने  सत्ता में वापसी के लिए अपना पसीना बहा रहा हैं वहीं, इन सबके बीच कुछ लोग ऐसे हैं जो यह दावा कर रहे हैं कि मध्य प्रदेश  छत्तीसगढ़ में सत्ता विरोधी लहर के बावजूद भाजपा फिर से गवर्नमेंट बनाएगी वहीं, उनका दावा है कि राजस्थान में कांग्रेस पार्टी फिर से सत्ता में वापसी करेगी

Loading...

Image result for जानिए किसलिए कांग्रेस पर दांव लगाने वालों को मिल रहा है मुनाफा

दरअसल, यह दावा कर रहा है सट्टा बाजार सट्टा मार्केट का दावा है कि पांच में से दो राज्यों मध्य प्रदेश  छत्तीसगढ़ में भाजपा फिर से सत्ता हासिल करेगी राजस्थान में भाजपा को नुकसान होगा  यहां कांग्रेस पार्टी सत्ता में वापसी कर गवर्नमेंट बनाएगी

loading...

कांग्रेस पर दांव लगाने वालों को मिल रहा है मुनाफा
इस चुनावी मौसम में सट्टा मार्केट में जमकर पैसा बरस रहा है सट्टा लगवाने वाले बुकियों की मानें तो, अगर कोई आदमी भाजपा पर 10 हजार रुपये का सट्टा लगाता है  भाजपा सत्ता में आती है तो, उसे 11 हजार रुपये मिलेंगे वहीं, अगर वह कांग्रेस पार्टी पर दांव लगाता है तो, उसे 4,400 रुपये के बदले 10 हजार रुपये मिलेंगे सट्टा मार्केट में चल रहे भाव के हिसाब से कांग्रेस पार्टी पर सट्टा लगाने से लोगों को ज्यादा फायदा मिल रहा है, क्योंकि सट्टा मार्केट का मानना है कि कांग्रेस पार्टी शायद ही मध्य प्रदेश  छत्तीसगढ़ में सत्ता में वापसी कर पाए

लोग भाजपा पर लगा रहे हैं खुलकर दांव
हालांकि, सट्टा मार्केट के अनुसार, राजस्थान में कांग्रेस पार्टी वापसी कर सकती है सट्टेबाजों के अनुसार, लोग भाजपा पर ही ज्यादा दांव लगा रहे हैं वहीं, टिकट बंटवारा होने के बाद सट्टा का रेट बदल सकता है लेकिन, बोला जा रहा है कि टिकट की घोषणा से इसके रेट पर ज्यादा प्रभाव नहीं पड़ेगा दरअसल, सट्टा मार्केट की आरंभ क्रिकेट से हुई थी  अब यह चुनाव में भी पैंठ बना चुका है वहीं, औनलाइन सट्टे के साथ ही कई माध्यमों से हर चुनाव में करोड़ों रुपये का सट्टा लगाया जाता है इसके औनलाइन होने के कारण ही पुलिस को इसे पकड़ने खासी कठिन होती है

loading...
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *