Monday , October 22 2018
Loading...
Breaking News

दिल के रोग से पाना चाहते है छुटकारा तो पढ़े ये ख़ास टिप्स

वैसे तो खुद को स्वस्थ रखने के लिए कई सावधानियां बरतनी पड़ती है लेकिन यदि ऐसे रोगी अवसाद  चिंता से ग्रस्त हो जाये तो इससे उनके सेहत पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है एक अध्ययन में पाया गया है कि दिल के रोगियों में से लगभग एक तिहाई लोगों में अवसाद  चिंता के लक्षण मौजूद हैं , जिससे उनमें दिल रोग  अन्य प्रतिकूल प्रभावों का खतरा बढ़ जाता है अमेरिका में मैसाचुसेट्स जनरल अस्पताल के क्रिस्टोफर सेलानो ने बोला कि दिल रोग के मरीजों में अवसाद  चिंता की स्थिति बनी रहती है

Loading...

Image result for दिल के रोग से पाना चाहते है छुटकारा तो पढ़े ये ख़ास टिप्स

सेलेनो ने बोला ,‘‘ जिन लोगों के दिल ने अच्छा से कार्य करना बंद कर दिया है  उनमें मनोवैज्ञानिक बीमारी के लक्षण भी है तो ऐसे में मनोवैज्ञानिक बीमारी का निदान करना चुनौतीपूर्ण हो सकता है ’’ उन्होंने बोला ,‘‘ दिल का कार्य करना बंद करना  अन्य दिल रोगों की उत्पत्ति को अवसाद से जोड़ा गया है ’’

loading...

दिल की बीमारी से हिंदुस्तान में सबसे ज़्यादा मौतें, 1 लाख की आबादी पर 272 को दिल रोग
यूपी की राजधानी लखनऊ के किंग जॉर्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय के हृदय-रोग विशेषज्ञ प्रोफेसर ऋषि सेठी ने हार्ट अटैक पर राष्ट्र की पहली मार्गदर्शिका जारी की है इसमें उन्होंने खुलासा किया है कि संसार में सबसे ज्यादा दिल रोगी हिंदुस्तान में हैं इसके अतिरिक्त राष्ट्र में सर्वाधिक मौतें भी इस रोग के कारण होती हैं इसके बचाव के लिए उन्होंने तम्बाकू नियंत्रण एवं व्यायाम को बढ़ावा देने की बात कही है

प्रो ऋषि सेठी ने बताया कि हिंदुस्तान में होने वाली 25 फीसदी मृत्यु का जिम्मेदार है दिल रोगसंसार में हर 1 लाख जनसंख्या पर 235 लोगों को दिल रोग होते हैं पर हिंदुस्तान में 272 को यह बीमारी होती है इसीलिए दिल रोग से बचाव  इलाज के लिए, हमारे राष्ट्र के लिए प्रासंगिक मार्गदर्शिका हो हिंदुस्तान के अनेक अस्पतालों में औसतन आयु जिस पर रोगी दिल रोग के साथ उपचार के लिए आता है

उन्होंने बताया कि जितने लोगों की मृत्यु दिल संबंधी रोग के कारण हिंदुस्तान में होती है, उतनी मृत्यु दर किसी भी  रोग का नहीं है इसके बावजूद, दिल रोग का खतरा कम करने के लिए वैज्ञानिक रूप से प्रमाणित प्रोग्राम हम लोग लागू कर पा रहे हैं उदहारण के तौर पर, तंबाकू नियंत्रण प्रभावकारी ढंग से जमीनी स्तर पर लागू हो, हमारी जीवनशैली में शारीरिक व्यायाम पर्याप्त होना चाहिए

प्रो ऋषि सेठी ने बताया कि यह किताब हार्ट रोगियों के लिए बहुत ज्यादा अच्छा साबित होगी इसमें वह कैसे लंबे समय तक स्वस्थ रहें, इस पर विस्तार से चर्चा की गई है उन्हें उपचार के बारे में भी तथ्य सहित बताया गया है हार्ट के उपचार में भी बहुत ज्यादा आर्थिक असमानताएं है उन्होंने बोला कि खुद रोगी को तंबाकू शराब से दूर रहकर 30 मिनट टहलना ही सबसे बड़ा उपचार है

loading...
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *