Loading...

कांग्रेस पार्टी के समर्थकों के सहारे सत्ता की सीढ़ी चढ़ेगी बीजेपी?

त्रिपुरा में आगामी 18 फरवरी को होने वाला चुनाव महासंग्राम में बदलता दिख रहा है. वामपंथियों के गढ़ में सत्ता हासिल करने के लिए भाजपा सीधा मुकाबला करने को कमर कस चुकी है. भाजपा ने सत्ता पर काबिज होने के लिए कांग्रेस पार्टी के पारंपरिक वोटरों पर नजर लगा रखी है.  बता दें कि त्रिपुरा में हुए पिछले दो विधानसभा चुनावों में कांग्रेस पार्टी ने यहां 10-10 सीटों पर कब्जा जमा रखा है.
Image result for कांग्रेस पार्टी के समर्थकों के सहारे सत्ता की सीढ़ी चढ़ेगी बीजेपी?'

2013 में भी कांग्रेस पार्टी ने दस सीटें जीती थीं वहीं  2008 में हुए चुनावों में भी 10 सीटों पर काबिज रही थी. जिस तरह से बंगाल में 2016 में हुए विधानसभा चुनावों में वाम दलों के साथ साझेदारी करने के बाद विधायकों  उसके कार्यकर्ताओं का पलायन हुआ अच्छा वैसे ही बीजेपी यहां भी अपने कार्ड खेल रही है. कांग्रेस पार्टी के एमएलए एसआर बर्मन पांच कांग्रेस पार्टी के सदस्यों के साथ चुनाव के कुछ दिन पहले बीजेपी  ज्वाइन किया है.

बर्मन बताते हैं कि इस बार कांग्रेस पार्टी के पारंपरिक वोटर वाम दल के विरूद्ध हैं  वह भाजपा के समर्थन में वोट करेंगे. उन्होंने बोला कि त्रिपुरा में हमेशा से ही एंटी लेफ्ट वोट दिए जाते रहे हैं. पिछले रविवार को केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने बोला था कि त्रिपुरा में एंटी लेफ्ट वोट भाजपा को मिलेंगे.

loading...

सत्ता पर काबिज होने के लिए ‘लाल’  ‘भगवा’ के बीच जुबानी जंग भी तेज हो गई है. राजनीतिक जानकारों का मानना है कि भाजपा इसबार अपना पूरा ध्यान गैर वामपंथी वोट बैंक पर जमाए हुई है. 60 सीटों वाली विधानसभा में कांग्रेस पार्टी 59 सीटों पर चुनाव लड़ रही है. जानकारों का मानना है कि इसबार का चुनाव में गैर वामपंथी कैडर के अतिरिक्त अन्य वोटरों की किरदार अहम होगी ये वह वोटर होंगे जिन्होंने पिछले चुनावों में कांग्रेस पार्टी को वोट दिया था. त्रिपुरा में भी वोटर बंगाल की तरह अलग राजनीतिक लाइन पर वोट करेंगे.

Click Here
पढ़े और खबरें
Visit on Our Website
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *